कुरान में माफी, मुसलमानों के लिए एक गाइड

मुक्त ebook डाउनलोड. क्षमा के चार चरण

अल्लाह में विश्वास रखने वाले लोगों को अल्लाह क्षमा करने की आज्ञा देता है | परमेश्वर स्वयं क्षमा करने वाला और दयालु होता है , और उन लोगों को प्रोत्साहित करता है | जो एक दूसरे की गलतियों और अपराधों के लिए क्षमा करते हैं | कुरान में माफी के बारे में बहुत कुछ कहा गया है , उनमें से न केवल मनुष्य के पाप से संबंधित बल्कि उन साथी मनुष्य के संबंध में भी कहा गया है , जो लगातार निश्चित रूप से गलतियां और त्रुटि करते हैं |

इंसान फायदे और नुकसान के साथ बनता है | ऐसा समय होता है , जब आदमी गुस्से में अपनी भावनाओं और विस्फोटक जुनून से नियंत्रित होता है | इसी के साथ वह अपने जीवन के साथ-साथ दूसरों के जीवन पर भी बहुत हानिकारक प्रभाव डालता है| सभी ग़लतियों को जानबूझकर नहीं किया जाता है | परंतु अपनी भावनाओं के नियंत्रण में आकर की गई हानि अक्सर उसकी इच्छा के विरुद्ध होती है | परिणाम स्वरूप बाद में उसे पछतावा होता है , कि उसने उस समय क्या कहा और क्या खो दिया |

यह किसी के साथ भी हो सकता है | इसलिए हमें और दूसरों को इस प्रवृत्ति के बारे में जागरूक होने की आवश्यकता है | इसी तरह , जब हमें लगता है कि किसी ने हमारे साथ कुछ गलत किया है | तो हमें अपनी ग़लतियों को याद रखना चाहिए और दूसरे के प्रति अपने दिल को कठोर नहीं करना चाहिए | बल्कि उसे उसके बदले क्षमा कर देना चाहिए |

अल्लाह ने कुरान में कहा है , कि हमें अपने साथियों को माफ कर देना चाहिए | फिर चाहे उन्होंने कितनी बड़ी गलती या फिर नुकसान हमें पहुंचाया हो | जैसे कि अल्लाह कहते हैं :-

“ जो लोग पुण्य नहीं करते हैं और अपने धन को रिश्तेदारों या ज़रूरतमंदों को जरूरत पड़ने पर नहीं देते हैं और उन्हें अल्लाह के कारण श्रापित बता कर उनकी मदद न करने की शपथ लेते हैं | और उनकी सहायता न करने के लिए उन्हें अन-देखा करते हैं | क्या आप नहीं चाहेंगे कि अल्लाह आपको माफ करें , अल्लाह दयालु के प्रतीक है |

इसलिए ईश्वर लोगों के पापों को क्षमा कर देता है | भले ही समुद्र में उतने ही झाग हो , इसका मतलब यह है कि भले ही उसने कितने पाप किए हो | परंतु मनुष्य दूसरों के लिए हमेशा क्रोध अपने मन में रखता है | क्या क्रोध आपको संतुष्ट करेगा ? बदले से आपको आजादी मिलेगी ? नहीं | बदला लेने की भावना ऐसी है , जैसे कि आप के चारों तरफ एक भारी श्रंखला हो | आप प्रति-शोध की भावना से ग्रस्त और प्रताड़ित महसूस करेंगे और आप अपने आप को नकारात्मक और कठोर रवैया में कैद कर लेंगे |

“ किसी के प्रति बदले की भावना रखना भी एक तरह से बुराई ही होगी | लेकिन जो कोई क्षमा करता है और सुलह करता है | उसका इनाम अल्लाह से मिलता है | वास्तव में वह गलत काम करने वालों को पसंद नहीं करता है | ”

कभी-कभी एक गलत काम करने वाले को आगे नुकसान करने से रोकने के लिए कानून व्यवस्था की आवश्यकता होती है | क्योंकि यह कोई मनमानी कार्रवाई नहीं है | इसमें एक बचाव दल भी होता है | हालांकि यह प्रति-कार और बदले की कार्रवाई से बहुत अलग है , परंतु नुकसान और गलत काम करने वालों को रोकता है | क्योंकि अल्लाह सबसे अधिक क्षमाशील और दयालु है | भगवान उन लोगों को बहुत अच्छा इनाम देता है , जो माफी करना चाहते हैं , और जिन लोगों ने गलत काम किए हैं , उनके साथ अच्छा करते हैं |

क्षमा करने के तरीकों को सीखने के लिए यदि आप फ्री इ-बुक डाउनलोड करना चाहते हैं तो नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके कर सकते हैं |

मुक्त ebook डाउनलोड. क्षमा के चार चरण

क्षमा के चार चरण PDF

क्षमा के चार चरण KINDLE

क्षमा के चार चरण EPUB

क्षमा के चार चरण
स्वच्छंदता, प्रसन्नता एवं सफलता का प्रभावशाली तरीका।प्रयोग
विलियम फर्गस मार्टिन

ISBN: 978-1-942526-54-4

 

 

क्षमा के चार चरण

क्षमा के चार चरण वर्कशीट

चिंता, घबराहट और अवसाद

आयुर्वेद, होम्योपैथी और चिकित्सा की शक्ति

योग और क्षमा

बौद्ध धर्म और क्षमा

हिंदू धर्म और क्षमा

प्रार्थना और क्षमा

मंत्र और क्षमा